Home News NewElection Business

1600 रुपए दो और एक लाख लो... 6141 महिलाओं से ठगे 98 लाख, 6 महीने बाद लोन नहीं, धमकी मिली

Banswara
1600 रुपए दो और एक लाख लो... 6141 महिलाओं से ठगे 98 लाख, 6 महीने बाद लोन नहीं, धमकी मिली
@hellobanswara -
Dream Big School

गुजरात की यूनिटी फाउंडेशन संस्थान के नाम से बांसवाड़ा-प्रतापगढ़ में की ठगी, 22 एजेंट पहुंचे एसपी के पास
 

महज 1600 रुपए में एक लाख का लोन। इस पर भी 40 फीसदी सब्सिडी और वह भी 45 दिन में। ऐसी लुभावनी स्कीम अगर कोई दे ताे झांसे में आना तो लाजमी ही है। गुजरात की यूनिटी फाउंडेशन के नाम से यहीं झांसा देकर बांसवाड़ा और प्रतापगढ़ की 6 हजार से अधिक गरीब महिलाओं से 98 लाख 25 हजार रुपए ऐंठ लिए गए है। हजारों गरीब महिलाओं की गाढ़ी कमाई के लाखों की धोखाधड़ी का यह मामला बुधवार को सामने आया। यहां पीड़ित 22 एजेंटों ने एसपी कार्यालय पहुंचकर लिखित में पत्र देकर कार्रवाई की गुहार लगाई है। इसकी शुरुआत 6 महीने पहले उपाध्याय पार्क से हुई। एसपी के नाम लिखे परिवाद में बताया कि उपाध्याय पार्क में अहमदाबाद के नवरंगपुरा के यूनिटी फाउंडेशन के लीडर दीपकसिंह राजपूत, रामजी राठौड़, भावेश राजवंशी और संजय भाई ने एजेंटों से संपर्क किया और उपाध्याय पार्क में बैठक की। जहां बताया कि उनकी यूनिटी फाउंडेशन के नाम से अहमदाबाद गुजरात चल रही है। संस्था केंद्र सरकार से पंजीकृत है और कई आदिवासी महिलाओं को 20-20 महिलाओं का समूह बनाकर प्रत्येक को 45 दिन में एक-एक लाख रुपए का लोन दिलाते है। जिनमें से केंद्र सरकार से 40 प्रतिशत सब्सिडी मिलती है। संस्थान ने राजस्थान में भी कई गरीब महिलाओं को लोन दिलाया है। चारों ने बताया कि महिला समूह बनाने पर संस्था से परिचय पत्र बनाकर 11 हजार रुपए हर महीने वेतन देंगे। इस झांसे में आकर महिलाओं का समूह बनाया। महिलाओं से 1600 रुपए फाइल चार्ज के रूप में वसूले गए। बांसवाड़ा और प्रतापगढ़ में 6141 गरीब महिलाएं जोड़ी गई। जिनमें से कुल 98 लाख 25 हजार रुपए भरवाए गए। शिकायतकर्ताओं में टामटिया के राजेश निनामा, माहीडैम के रंगजी चरपोटा, प्रतापगढ़ के धूलेश्वर, दाहोद के बाबू सारेल, भावना बेन, बांसवाड़ा के प्रभूलाल, शंकरलाल, नारायण, कानसिंह डामोर, सरला डामोर, खोमचंद डामोर, दानपुर के मोहनलाल, बोरखेड़ी के गौड़सिंह, सल्लोपाट के हरलाल गरासिया, कुशलगढ़ के भरत खड़िया, तांबेसरा के वालसिंह, गढ़ी के लक्ष्मण निनामा समेत अन्य के नाम शामिल हैं।
6 महीने बाद मूल रकम तक नहीं दी, एजेंटों को दी धमकी
फाइल चार्ज के रूप में लाखों रुपए वसूलने के काफी दिनों बाद भी जब लोन नहीं मिला तो एजेंटों ने कथित कंपनी लीडर से संपर्क साधा। लेकिन, जवाब दिया गया कि फाइल केंद्र सरकार को भेज दी गई है। जहां से स्वीकृति मिलते ही लोन दे दिए जाएंगे। इस पर एजेंट अहमदाबाद में संस्थान के कार्यालय पहुंचे। एजेंटों का आरोप है कि वहां पर उन्हें धमकाया गया और लोन नहीं देने की बात कही। इस पर अब जिन महिलाओं ने एजेंटों के जरिये लाखों रुपए जमा कराए है वह एजेंटों के घरों के चक्कर काट रही है। गौरतलब है कि जिले में लुभावनी स्कीम का झांसा देकर गरीब लोगों से लाखों की धोखाधड़ी के पहले भी कई मामले सामने आ चुके है। लेकिन, ज्यादातर मामलों में जिम्मेदारों तक पुलिस कार्रवाई नहीं होने पर जिले में इस तरह के मामले लगातार सामने आते रहते है।

शेयर करे

More news

Search
×