शराब के ठेके पर एसडीएम को मिला पुलिस की बंधी का रजिस्टर

Updated on March 14, 2019 Crime
शराब के ठेके पर एसडीएम को मिला पुलिस की बंधी का रजिस्टर , Banswara "1 पेटी बीयर सीआई साब नए वाले, 10 हजार माहबंधी, 4 बोतल बीयर डीएसपी साब..., चौकी हैड के नाम पर चार हजार रुपए"

कुशलगढ़ में सरकारी अंग्रेजी शराब की दुकान पर बुधवार को एसडीएम सुमन मीणा की मौजूदगी में हुई रेड में भारी मात्रा में अवधिपार और मिलावटी शराब बरामद हुई। चौंकाने वाली बात यह भी है कि दुकान से मिले रजिस्टर में आबकारी और पुलिस के डीएसपी से लेकर कांस्टेबल और ड्राइवर तक को हर महीने शराब और हजारों रुपए की मासिक बंदी देने का रिकॉर्ड मिला है। रिकॉर्ड की जांच की जा रही है ऐसे में कइयों पर गाज गिर सकती है। मौके से एक सेल्समेन को भी गिरफ्तार किया गया है। यह कार्रवाई शराब दुकान से तय कीमत से ज्यादा वसूलने और शराब ढाबा चलाने की शिकायत पर की थी, लेकिन मौके पर पहुंची टीम ने जांच की तो मिलीभगत और मिलावट का भांडाफोड़ उजागर हुआ। 

दरअसल, कुशलगढ़ एसडीएम को शिकायत मिली थी कि आबकारी की अंग्रेजी शराब दुकान पर ओवररेट वसूली जा रही है। इस पर एसडीएम बुधवार को पुलिस और आबकारी की टीम के साथ मौके पर जांच करने पहुंची। जहां कोई रेट लिस्ट नहीं लगी नहीं मिली। दुकान में जांच पर 8 अप्रैल, 2018 को अवधिपार हो चुकी एलिफेंट ब्रांड बीयर की 24 पेटी पाई गई। भारी गड़बड़ी की आशंका के चलते मौके पर सहायक आबकारी अधिकारी देवेंद्र गिरी, अतिरिक्त आबकारी अधिकारी महावीर सिंह राठौड़, प्रहराधिकारी मंगलाराम, कुशलगढ़ सीआई गोविंदसिंह राजपुरोहित को भी मौके पर पहुंचे। दुकान के पीछे अवैध शराब ढाबा चलाने की शिकायत पर टीम ने मौके की पड़ताल की तो 20 लीटर मिलावटी शराब और भारी मात्रा में शराब बनाने की सामग्री बरामद हुई। दुकान में दैनिक बिक्री रजिस्टर शीट में 7 दिसंबर, 2018 के बाद का कोई मेंटेन नहीं मिला। सितंबर से मार्च, 2018 तक पुलिस और आबकारी विभाग के कारिंदों को शराब और मासिक बंधी देने का रिकॉर्ड भी बरामद हुआ। हालांकि, टीम आने की भनक लगते ही एक सेल्समेन पहले ही भाग निकला जबकि सलूंबर निवासी सेल्समैन हिम्मतसिंह राजपूत को गिरफ्तार कर लिया गया। 

 

पुलिस की शह थी इसलिए दुकान के पीछे ही बनाई जा रही थी मिलावटी शराब, 11 महीने पहले अवधिपार हो चुकी 24 पेटी बीयर भी मिली 

चौकी प्रभारी, बीट कांस्टेबल और डीएसपी के ड्राइवर के भी नाम 

1 बोतल RS कांस्टेबल की हर महीने बंधी, 1 बोतल RS डीएसपी के ड्राइवर की तय, 3 बोतल RS चौकी के हैड कांस्टेबल की, 2 बोतल RS सीआई के ड्राइवर के लिए, 1 बोतल बीट प्रभारी भी ले रहा, 4 हजार रुपए चौकी हैड (सितंबर से दिसंबर) 

ठेके बंद होने के बाद मिलीभगत से रात को भी चलता था ढाबा 

शराब दुकान मध्यप्रदेश के विकास टांक के नाम से जारी है। लेकिन बताया जा रहा है कि उसने दुकान कांट्रेक्ट पर दे रखी है। दुकान पर 4 सेल्समैन काम करते हैं। जिनमें से एक सेल्समैन को मौके से गिरफ्तार किया गया है। बताया जा रहा है कि पुलिस और आबकारी की मिलीभगत से रात को दुकान बंद होने के बाद शराब ढाबा चलाया जाता है। 

गुजरात-मध्यप्रदेश की बॉर्डर से सटा होने से शराब तस्करी भी 

कुशलगढ़ में इस तरह मिलावटी के गोरखधंधे ने पुलिस और आबकारी की निगरानी पर सवाल खड़े कर दिए हैं। कस्बा मध्यप्रदेश और गुजरात से लगता है ऐसे में यहां से शराब तस्करी के मामले भी सामने आ चुके हैं। हाल यह है कि किराणा दुकान की आड़ में भी कस्बे में बड़े स्तर पर अवैध रूप से शराब परोसी जा रही है। 

10 हजार सीआई तो 4 हजार चाैकी का हैड ले रहा बंधी 

रिकॉर्ड में सबसे बड़ी चौंकाने वाली बात यह है कि पुलिस और आबकारी अधिकारियों के लिए भी महीने की बंधी देने का उल्लेख किया गया है। रिकॉर्ड अनुसार दिसंबर, 2018 में सीआई को 13 अक्टूबर को मासिक बंधी के रूप में 10 हजार कैश, चौकी के हैड को 4 हजार रुपए, 2 बोतल डीएसपी के नाम से हर महीने देने का भी उल्लेख है। 

मिलावटी शराब मिली, जांच कराएंगे 

अंग्रेजी शराब दुकान के पिछवाड़े से 20 लीटर मिलावटी शराब और इनकी पैकिंग के लिए इस्तेमाल सामग्री बरामद हुई है। इसके अलावा 24 पेटी अवधिपार बीयर भी जब्त की है। मौके से एक रजिस्टर मिला है जिसमें पुलिस और आबकारी अधिकारी कर्मचारी के नाम से हर महीने शराब और रुपए देने का उल्लेख है। जिसकी जांच करवाई जाएगी। दुकान को सीज कर दिया गया है। सुमन मीणा, एसडीएम, कुशलगढ़ 

 

 

By Bhaskar



Leo College Banswara
×
Hello Banswara Open in App