Home News NewElection Business

हम रावण जला रहे थे... उधर, पांच साल की बच्ची को नोंच गया राक्षस

Banswara
हम रावण जला रहे थे... उधर, पांच साल की बच्ची को नोंच गया राक्षस
@hellobanswara -
Dream Big School

दुष्कर्म के बाद बच्ची और उसकी मां का यह फोटो ही दर्द की भयावहता बताने के लिए काफी है। रात तक मां से ऐसे ही लिपटकर रोती रही।

ज्यादती का दर्द इतना कि रात तक बंद नहीं हुई चीखें आनंदपुरी क्षेत्र में घर पर अकेले थे बच्चे, बाइक पर आए दो बदमाशों की करतूत, रिश्तेदार हो सकता है आरोपी, इसी क्षेत्र में जला सबसे बड़ा रावण

बांसवाड़ायातना, यौन शोषण और हेवानियत की हदें पार हो चुकी हैं। दशहरे पर जब हम बुराई के खात्मे के प्रतिक रावण को जलाने की तैयारी में लगे थे, उसी दौरान दो दरिंदों ने पांच साल की बच्ची को हेवानियत का शिकार बना डाला। शाम को बच्ची को महात्मा गांधी अस्पताल लाया गया तो उसकी चीखें दर्द की भयावहता को बताने के लिए काफी थी। दोपहर की इस वारदात के बाद भी चीखें रात तक थमी नहीं थी। अस्पताल के बेड पर मासूम अपनी मां के गले लिपटकर सिसकियां ले रही थी। फिलहाल उसकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। घटना आनंदपुरी थाना इलाके में मंगलवार दोपहर करीब डेढ़ बजे की है। वारदात तब हुई जब बालिका की मां सोयाबीन काटने खेत में गई थी। घर पर पीड़िता उसके भाई-बहन ही थे। बाइक पर दो युवक आए और बच्ची के भाई को धमकाकर घर से भगा दिया। बच्ची को एमजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मामले की भनक लगते ही रात को पुलिस एमजी अस्पताल पहुंची और पीड़ित बालिका के मां के बयान दर्ज किए। पुलिस का संदेह महिला के ही किसी रिश्तेदार पर है।थानाधिकारी गजेंद्रसिंह ने बताया वारदात करीब 1:30 बजे की है। थाना इलाके की 5 साल की बालिका से ज्यादती हुई है। पीड़िता की मां ने बताया कि वह घास लेने खेत में गई थी। घर पर उसकी मासूम बेटी, दो बेटे और दो ओर बेटियां थी। करीब 3 बजे महिला को उसके अहमदाबाद से उसके भतीजे ने कॉल किया। कॉल पर महिला को बताया कि उसके घर से जोर-जोर से आवाजें आ रही हैं। इस पर महिला घर पहुंची। घर पहुंचने पर बाहर रिश्तेदार और गांव के कुछ लोग खड़े थे। जेठानी ने बताया कि दो युवक बाइक लेकर आए थे। हल्ला होने पर दोनों भाग छूटे। महिला ने भीतर जाकर देखा तो उसकी मासूम बेटी बदहवास हाल में थी। उसके कपड़े खून से सने थे। इसे देख महिला के होश उड़ गए। खुद किसी तरह संभालकर बेटी को स्थानीय अस्पताल ले गई। जहां डॉक्टर ने रक्तस्त्राव होने और मामला ज्यादती का होने पर एमजी अस्पताल ले जाने को कहा। इस पर मासूम को शाम को एमजी अस्पताल लाया गया। यहां प्राथमिक उपचार के बाद बालिका को भर्ती करा दिया गया है। पुलिस इस मामले में जांच कर रही है। घटना आनंदपुरी क्षेत्र की है और जिले में सबसे बड़ा 60 फीट के रावण के पुतले का दहन भी यहीं किया गया था।बच्ची की मां से बयान लेते पुलिसकर्मी।

शेयर करे

More news

Search
×