Home News Business Covid-19

12वीं पास बांसवाड़ा बैंक का चपरासी, हरियाणा की अंतरराज्यीय एटीएम फ्राॅड गैंग का सरगना

Banswara
12वीं पास बांसवाड़ा बैंक का चपरासी, हरियाणा की अंतरराज्यीय एटीएम फ्राॅड गैंग का सरगना
@HelloBanswara - Banswara -

96 एटीएम कार्ड, 3 पासबुक, 5 चेक बुक, 2 सीडी, 2 माेबाइल, लेपटाॅप, कार्ड रीडर, आधार कार्ड, स्केनर, 38 हजार बरामद

एटीएम के क्लाेन बनाकर लाेगाें के बैंक खाते से रुपए चुराने पर दाहाेद की क्राइम ब्रांच ने बांसवाड़ा के गांगड़तलाई स्थित लंकाई एक बैंक के पीयाेन काे गिरफ्तार किया है। महज 12वीं पास हरियाणा के सांसी राेहतक निवासी अमित पुत्र राजकुमार महाला हरियाणा की एटीएम फ्राॅड गैंग का मुख्य सरगना निकला। अमित उसके साथियाें के साथ मिलकर लाेगाें के एटीएम के क्लाेन बनाता और फिर उनके बैंक खाते से कैश ट्रांसफर कर चुरा लेता।

आरोपी अमित
सज्जनगढ़ में ही रहकर वह स्नातक की पढ़ाई कर रहा था। अमित के आवास से क्राइम ब्रांच ने 38, 300 रुपए के अलावा 94 अलग-अलग लाेगाें के नाम के एटीएम कार्ड, दाे ब्लैंक एटीएम कार्ड, 3 पासबुक, पांच चेक बुक, 2 सीडी कैसेट, दाे माेबाइल, एक लेपटाॅप, एक कार्ड रिडर, एक स्केनर मशीन, एक आधार कार्ड, एक बाइक और एक स्काेडा कार भी जब्त की है। आरोपी अमित ने उसकी गैंग के साथ मिलकर गुजरात के 4 जिलाें में कई लाेगाें के खाताें से कैश चुराकर गुजरात पुलिस की नाक में दम कर रखा था। क्राइम ब्रांच उसके साथियाें की तलाश में जुटी है।


शातिर अमित के पास स्काेडा कार है जिससे वह गुजरात जाता और एटीएम से कैश चुराकर वापस आ जाता। 27 मई से 31 मई के दाैरान यादगार एटीएम और रेलवे स्टेशन के एटीएम से पुलिस कर्मी के अकाउंट में से एटीएम के जरिए 84 हजार रुपए चुरा लिए। जिसकी शिकायत राजकुमार मलसिंह ने दाहाेद पुलिस स्टेशन में दर्ज कराई। मामला दाहाेद क्राइम ब्रांच तक पहुंचा ताे टीम हरकत में आई। क्राइम ब्रांच के इंस्पेक्टर भाविक शाह ने बताया कि गुजरात के विश्वास प्रोजेक्ट के तहत लगाए गए सीसीटीवी के फुटेज खंगाले गए। जहां अमित नजर आया। इस पर उसके बारे में पड़ताल की ताे पता चला कि वह लंकाई बीआेबी में पीयाेन है। इस पर हमारी टीम बांसवाड़ा पहुंची। आराेपी सज्जनगढ़ में बस स्टैंड के पास वर्धमान काॅम्पलैक्स मंे रह रहा था। जिसके आवास से कई एटीएम, स्केनर मशीन, आधार कार्ड, लेपटाॅप सहित अन्य चीजें बरामद हुई।

 

मदद के बहाने देख लेते पिन नंबर, एटीएम का क्लोन बना करते वारदात

आराेपी अमित ने कबूला है कि वह उसके साथियाें के साथ मिलकर गुजरात जाता। जहां एटीएम पर लाेगाें के कैश ट्रांसफर करने पर उस व्यक्ति का पिन नंबर देख लेते। इसके बाद एटीएम का डेटा ले लेते और उसका क्लाेन बना देते। क्लाेन के जरिए ब्लैंक कार्ड में डेटा ट्रांसफर कर नकली कार्ड बनाते थे। जिसके जरिए कई जगह कैश निकाला। क्लाेन बनाने के लिए अमित और उसकी गैंग के पास कम्प्यूटर, स्केनर और जरूरी संसाधन भी थे। मामले की गंभीरता काे देखते हुए पंचमहल गाेधरा रेंज के पुलिस उपमहानिरीक्षक एमएस भराड़ा के निर्देशन में जांच की जा रही है। आराेपी गैंग के जरिए दाहाेद शहर के अलावा लिमड़ी, झालाेद, पंचमहल जिले के माेरवा, हड़क और गाेधरा शहर, अरवल्ली जिले के मौड़ासा, मालपुर के अलावा महीसागर जिले के लुनावाड़ा सहित अन्य जगहाें से फर्जी एटीएम कार्ड के जरिए कई लाेगाें के खाते से रुपए चुरा लिए। अमित के पकड़ में आने पर बांसवाड़ा में भी एटीएम से कैश चुराने की आशंका बढ़ गई है। खुलासे के बाद बांसवाड़ा पुलिस भी हरकत में आ चुकी है।

शेयर करे

More news

Search
×