होम ख़बरे विडिओ इवेंट्स

दशहरा मेले से लाैट रहे थे, रपट पर तेज रफ्तार में मोड़ी जीप, छत पर बैठे और दरवाजों पर लटके 24 मेलार्थी गिरे, किशोरी की मौतक फेल होने की जताई आशंका, चालक फरार

9 Oct 2019 07:35 am

घायलाें में 11 महिलाएं और 10 बालिकाएं भी, एक गंभीर

विजयादशमी पर रावण दहन अाैर दशहरा मेला देख लौट रहे 24 मेलार्थी रात को भूंगड़ा क्षेत्र के भीमगढ़ घाटी में क्रूजर जीप से गिरने पर घायल हो गए। हादसे में एक किशोरी की भी मौत हो गई। हादसा भीमगढ़ घाटीमें एक रपट के पास हुआ। क्रूजर इतनी ओवरलोड थी कि बिना पलटे ही महज संतुलन बिगड़ने पर ही छत पर और दरवाजों पर लटकी सवारियां गिर पड़ी। वहीं कुछ घबराकर कूद पड़े। हादसे की स्पष्ट वजह सामने नहीं आई है लेकिन कुछ घायलों ने ब्रेक फेल होने की भी आशंका जताई। घायलाें ने बताया कि क्रूजर में ठूस-ठूस कर सवारियां भरी गई थी। हादसे के बाद से चालक अर्जुन का कोई पता नहीं चल पाया है। घटना में बहन के साथ मेला देखने आई काकनसेजा के हिंदुलापाड़ा की 20 वर्षीय ममता पुत्री केवजी चरपोटा की मौत हुई है।यहां काकानसेजा की 9वीं की छात्रा एंजन पुत्री बापूलाल चरपाेटा ने बताया कि वह बड़ी बहन फूला और चचेरी बहन प्रमीला पुत्री कालूराम के साथ दशहरा मेला देखने आई थी। घर लौटने के लिए नया बस स्टैंड के पास क्रूजर में बैठी। क्रूजर में सवारियां पूरी होने पर चालक ने छत पर बैठने के लिए कहा। इस पर वह बहनों के साथ छत पर बैठ गई। छत पर 8 से 10 सवारियां बैठी थी। वहीं दरवाजाें पर भी सवारियां लटकी हुई थी। पृथ्वीगढ़ में रपट के पास पहुंचने पर एकाएक जीप का संतुलन बिगड़ा। चालक अर्जुन ने जीप को पुलिये में गिरने से बचाने एकाएक जीप मोड़ी तो छत पर बैठी और दरवाजों पर लटक रही सवारियां गिर पड़ी। कुछ रपट से नीचे जा गिरे तो कुछ सड़क पर। अंधेरा होने से हादसे के बाद मौके पर चीख-पुकार मच गई। ग्रामीण मौके की तरफ दौड़े। इसी रास्ते पर आ रहे वाहनों से घायलों को एमजी अस्पताल लाया गया। हादसे की सूचना पहले ही मिल जाने पर डॉक्टर, नर्सिंग स्टॉफ की पूरी टीम और समाजसेवी राहुल सराफ अपने कार्यकर्ताओं के साथ पहले से व्यवस्थाएं कर तैयार थे।प्रताप सर्किल तक पहुंचने पर थम गई सासें: बेहद गंभीर ममता को एमजी अस्पताल लाया गया। सिर में गंभीर चोट लगने पर और ज्यादा हलचल नहीं होने पर रेफर कर दिया। लेकिन, प्रताप सर्किल तक पहुंचने पर ममता की सांसें थम गई। इस पर उसके शव को वापस लाकर एमजी अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया गया। ममता के भाई दीपक ने बताया कि वह मेला देखने आई थी। ममता के अलावा घर में उसकी एक बड़ी बहन कला और बड़ा भाई दीपक है।

हादसे में काकनसेजा गांव के ही 16 लोग घायल

हादसे में अकेले काकनसेजा गांव के ही 16 जने घायल हो गए जबकि एक किशोरी की मौत हुई है। हादसे में चाचाकोटा निवासी 23 वर्षीय रमेश पुत्र बाबूलाल चरपोटा, काकनसेजा निवासी अनीता पुत्री गेबीलाल चरपोटा, कला पुत्री केवजी चरपोटा, भूली पत्नी कालू निनामा, वनीता पत्नी बलवीर निनामा, एंजन पुत्री बापूलाल चरपोटा, 12 वर्षीय प्रमीला पुत्री कालू चरपोटा, 13 वर्षीय बसंत पुत्री रकमा चरपोटा, 18 वर्षीय ईतू पुत्री कालूराम चरपोटा, 18 वर्षीय प्रियंका पुत्री नानजी चरपोटा, 18 वर्षीय कालूराम पुत्र बापूलाल चरपोटा, 15 वर्षीय रसिका पुत्री रायचंद चरपोटा, काकनसेजा निवासी बादरा चरपोटा, प्रियंका पुत्री कालूराम चरपोटा, गीता पुत्री नारायण चरपोटा,सका पुत्री सुरेश चरपोटा, सुनीता पुत्री कालूराम चरपोटा, जयचंद पुत्र केवलराम भोई, नरसा पुत्री रमेश चरपोटा, गुड्डी पत्नी प्रभू मईड़ा, पायल पुत्री प्रभूलाल चरपोटा, रामलाल पुत्री धारजी चरपोटा,15 वर्षीय सुनीता पुत्री कालूराम चरपोटा।

ट्रोमा वार्ड के बाहर क्यूआरटी लगाई

हादसे के बाद एक के बाद एक घायलों के अस्पताल लाने पर अफरा-तफरी मच गई। इत्तला पर कलेक्टर, एसपी भी घायलों का हाल जानने पहुंचे। यहां अस्पताल में घायलों के परिजन और परिचितों के पहुंचने पर भीड़ होने पर एसपी ने सुरक्षा के लिहाजे से क्यूआरटी टीम तैनात करा दी। हालांकि, इससे दूसरे वार्डों में भर्ती मरीजों के परिजनों को भी वार्डों में जाने में परेशानी हुई।

शेयर करे