Home News Business Covid-19

भीलवाड़ा से लौटे सीआई जांच के नाम पर गायब, एसपी को फोन कर बुलाना पड़ा

Banswara
भीलवाड़ा से लौटे सीआई जांच के नाम पर गायब, एसपी को फोन कर बुलाना पड़ा
@HelloBanswara -

एमजी अस्पताल में बने आइसोलेशन वार्ड में बुधवार को सीआई समेत चार जनों को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया। पहले से भर्ती युवक छत्रसालपुर निवासी नरेंद्रसिंह और सुवाला निवासी रमेश सेवक की रिपोर्ट निगेटिव आई तो सभी ने राहत महसूस की और उन्हें छुट्टी देकर घर रवाना कर दिया गया। लेकिन, दोपहर बाद दोनों की दोबारा सैंपल लेने के निर्देश ने स्वास्थ्य विभाग की दौड़ करवा दी। दोनों युवकों को वापस एमजी अस्पताल के आइसोलेशन में भर्ती किया गया और सैंपल जांच के लिए भेजे गए। राहत की बात यह है कि बांसवाड़ा में अभी तक एक भी कोरोना पॉजिटिव रोगी नहीं मिला है। लेकिन, चार जनों के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती होने और उनमें एक सीआई के शामिल होने ने चिंता बढ़ा दी है क्योंकि, सीआई पुलिस सेवा से है ऐसे में उनका आमजन से संपर्क अधिक रहता है। हालांकि, जांच करने वाले डॉक्टरों ने बताया कि फिलहाल सीआई गोपाल चंदेल पूरी तरह स्वस्थ प्रतीत हो रहे हंै। बताया जा रहा है कि सीआई जिम्मेदार अधिकारी होते हुए भी डॉक्टरों को सैंपल देने से कतराते रहे। बाद में बिना जांच कराए ही अस्पताल से बाहर निकल गए। सीआई की जांच इसलिए भी जरूरी थी, क्योंकि वह दो दिन पहले ही भीलवाड़ा से लौटे हैं। भीलवाड़ा में कोरोना के पॉजिटिव सामने आ चुके हैं। ऐसे में सीआई का यह गैर जिम्मेदाराना बर्ताव न सिर्फ उनके परिवार बल्कि पुलिस प्रशासन और जिले के दूसरे लोगों पर भी भारी पड़ सकता था। फिलहाल वह पुलिस रिजर्व लाइन में कार्यरत है। स्वास्थ्य विभाग के सूत्र बताते है कि सीआई को दो दिन पहले हल्का बुखार आया था और वह भीलवाड़ा से लौटे थे। जिस पर वह एमजी अस्पताल में बुधवार दोपहर 1 बजे जांच कराने आए। जहां डॉक्टरों ने कोरोना संदिग्ध होने की आशंका के चलते सीआई को सैंपल देने के लिए कहा, लेकिन सीआई चंदेल सैंपल देने के बजाय अस्पताल से ही निकल गए। मामले की गंभीरता को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने इसकी सूचना कलेक्टर और पुलिस प्रशासन को दी। जिस पर एसपी केसरसिंह शेखावत ने सीआई चंदेल से संपर्क कर उन्हें जांच कराने के आदेश दिए, जिसके बाद चंदेल दोपहर 3 बजे दोबारा अस्पताल पहुंचे। बाद में चंदेल के सैंपल लेकर उन्हें आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया। एसपी केसरसिंह शेखावत ने बताया कि मुझे कॉल आया था कि सीआई सहयोग नहीं कर रहे है। इस पर उन्हें सैंपल देने के निर्देश दिए।

भर्ती होने के बाद जांच से इनकार
दबाव में जांच के लिए चंदेल अस्पताल तो पहुंचे, लेकिन सीआई द्वारा बार बार वार्ड से बाहर निकलने और एक जगह पर स्थित नहीं रहने के कारण अस्पताल स्टाफ को परेशानियों का सामना करना पड़ा। उनके द्वारा आइसोलेशन वार्ड में कार्यरत डॉक्टर और स्टाफ को जांच में सहयोग नहीं किया गया। काफी समझाइश के बाद डॉक्टरों ने सैंपल लिए। इस संबंध में सीआई गोपाल चंदेल से बात की तो बताया

मैं खुद जांच करवाने गया था
मैं भीलवाड़ा से लौटा था। इसलिए एसपी ऑफिस में आमद करवानी थी। इससे पहले खुद अपनी जिम्मेदारी समझकर महात्मा गांधी अस्पताल जांच करवाने गया। जहां मुझे सैंपल देकर भर्ती होने के लिए कहा गया, लेकिन मुझे आमद करवानी थी। इसलिए मैं दोबारा एसपी ऑफिस गया और आमद करवाकर लौटा। कहीं भागा नहीं था। मैंने सहयोग किया है। गोपाल चंदेल, सीआई

गुजरात से लौटा कोहाला का एमबीए का विद्यार्थी संदिग्ध
दूसरा संदिग्ध तलवाड़ा के पास कोहाला गांव का सामने आया है। कोहाला निवासी गौरव पंचाल एमबीए फाइनल इयर का विद्यार्थी है। जो 22 मार्च को ही अहमदाबाद से सुबह 5 बजे कोहाला पहुंचा। बताया जा रहा है कि वह हाल फिलहाल शहर में ही रह रहा था और 3 दिनों से घर पर ही था। सर्दी-जुखाम की शिकायत पर उसे स्वास्थ्य विभाग की टीम एमजी अस्पताल लाई। जहां आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर सैंपल लिए।

शेयर करे

More news

Search
×