कर्जमाफी पर कांग्रेसी ने की किसानों से हाथापाई, बोले- जो मिल रहा है ले, लो

Updated on February 9, 2019 Govt Politics Crime Politics
कर्जमाफी पर कांग्रेसी ने की किसानों से हाथापाई, बोले- जो मिल रहा है ले, लो  , Banswara "किसानों ने पूछा एक किसान के दो लोन तो क्या वो ज्यादा वाला माफ करवा सकता है, बिना जवाब दिए निकल गए मंत्री, बाद में ब्लॉक अध्यक्ष अर्जुन पाटीदार किसानों से भ"

शहर के पास ठीकरिया लैम्पस में शुक्रवार को लोन माफी प्रमाण पत्र शिविर में कांग्रेस पदाधिकारियों और किसानों में हाथापाई की स्थिति हो गई। किसानों ने प्रभारी मंत्री राजेंद्र सिंह यादव से लोन माफी को लेकर सवाल किए, लेकिन वे बिना जवाब दिए निकल गए। उनके निकलने के बाद कांग्रेसी नेताओं ने किसानों से दुर्व्यवहार करते हुए धमकी तक दे डाली। इस पर किसान भी आक्रोशित हो गए। इस दौरान आपसी खींचतान का माहौल हो गया। हुआ यूं कि ऋण माफी शिविर से बाहर आते ही मंत्री से कुछ किसानों ने पूछा कि कोऑपरेटिव बैंक से किसानों ने 15 से 20 हजार रुपए का ही लोन ले रखा है और दूसरे बैंकों से ज्यादा का लोन है। क्या किसानों का एक ही लोन माफ होगा? अगर एक ही लोन माफ होता है तो क्यों न ज्यादा राशि वाला लोन माफ कराए। इस सवाल का यादव के पास कोई जवाब नहीं था। वे बिना कुछ कहे निकल गए। कांग्रेस पदाधिकारियों को मंत्री को इस तरह रोककर पूछना अखर गया। कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष अर्जुन पाटीदार व पूर्व कांग्रेस जिला उपाध्यक्ष कृष्णपाल सिसोदिया ने किसानों का हड़का दिया। अर्जुन पाटीदार ने कहा कि हमारी सरकार ने सत्ता में आते ही किसानों को कर्जा माफ कर दिया। बीजेपी ने पांच साल तक क्या किया। इस पर गांव के अमरेंग, गुमानेंग, भीमा, कोदरलाल, नाथजी ने कहा कि सरकार किसी एक दल की नहीं होती, पूरी जनता की होती है। आप ऐसे कैसे कह रहे हो। इस पर पाटीदार और कृष्णपालसिंह भड़क गए। बोले अभी जो मिल रहा है, वो ले ले। आगे की आगे देखेंगे। इस पर किसान भी उनसे उलझ गए। बात हाथापाई तक पहुंच गई। आधे घंटे हंगामे के बीच कांग्रेस पदाधिकारियों और किसानों में जोरदार बहसबाजी हुई। कांग्रेस नेताओं ने धमकी भरे शब्दों का उपयोग करते हुए सत्ता का रौब दिखाया। किसानों ने कांग्रेसियों के दुर्व्यवहार पर नाराजगी जताते हुए वापस शक्ल नहीं दिखाने की चेतावनी दे डाली। इस घटनाक्रम से पूर्व ठीकरिया के बुजुर्ग किसान कोदरलाल उपाध्याय ने पिछले कई सालों से कृषिमंडी बंद होने की शिकायत की। इस पर मंत्री ने कलेक्टर से बात कर शुरू करवाने का आश्वासन दिया। सगड़ौद और ठीकरिया में हुए ऋण माफी शिविर में प्रभारी मंत्री यादव और गढ़ी की पूर्व विधायक कांता भील ने अपने भाषण में ऋण माफी करने को लेकर लोकसभा चुनाव में ध्यान रखने की बात बताई। वहीं राहुल गांधी को भावी प्रधानमंत्री तक बता दिया।


कांग्रेस जिलाध्यक्ष पद को लेकर दिखी गुटबाजी  
वर्तमान जिलाध्यक्ष को बदलने को लेकर कांग्रेस के कुछ स्थानीय कार्यकर्ता प्रभारी मंत्री से मिले। इस दौरान जिलाध्यक्ष चांदमल जैन की शिकायतें करते हुए उन्हें हटाने और पूर्व कांग्रेस जिला उपाध्यक्ष कृष्णपाल सिसोदिया को जिलाध्यक्ष बनाने की पैरवी की। मंत्री को बताया कि जिलाध्यक्ष चांदमल जैन कार्यकर्ताओं की नहीं सुनते है और कार्यालय में भी नहीं आते हैं। इस पर मंत्री का भी जवाब था कि मैं भी जिलाध्यक्ष को पूरी तरह से नहीं जानता हूं। अभी तक उनसे नहीं मिला हूं। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि अगर कृष्णपाल को जिलाध्यक्ष बनाना है तो कार्यक्रम करवाओ और उनको साथ लेकर चलो। वहीं कांग्रेस के दूसरे गुट के लोगों का कहना था कि जिलाध्यक्ष की चाह में पूर्व जिला उपाध्यक्ष कृष्णपाल मंत्री के साथ घूम रहे हैं। जिलाध्यक्ष जैन को हटाने की साजिश की जा रही हैं। 



Leo College Banswara