COVID-19
Home News Business Covid-19

कोरोना वायरस पर डॉ.ऋचा गुप्ता से खास बातचित, जानकारी जो जरूर है आपके लिए

Banswara
कोरोना वायरस पर डॉ.ऋचा गुप्ता से खास बातचित, जानकारी जो जरूर है आपके लिए
@hellobanswara -

आज पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से लोग भयभीत है और डर सा माहोल बन गया है और उसके पूरी कोशिश कर रही है। पर अभी तक इस बीमारी की कोई मेडिसिन इजात नहीं हुई है। इसी के मध्य नज़र बाँसवाड़ा शहर की डॉ. ऋचा गुप्ता से खास बातचीत में उन्होंने कोरोना वायरस के बारे में बताया और उसके रोकथाम के लिए और सावधानी के लिए जानकारी दी। 

कोरोनावायरस (Coronavirus) Corona Viridae Family से हैं। मानवों में यह श्वास तंत्र संक्रमण के कारण होते हैं, जो अधिकांश रूप से मध्यम गहनता के लेकिन कभी-कभी जानलेवा होते हैं। इनकी रोकथाम के लिए कोई टीका (वैक्सीन) या वायररोधी (antiviral) अभी उपलब्ध नहीं है और उपचार के लिए प्राणी की अपने प्रतिरक्षा प्रणाली पर निर्भर करता है और रोगलक्षणों (जैसे कि निर्जलीकरण या डीहाइड्रेशन, ज्वर, आदि) का उपचार किया जाता है ताकि संक्रमण से लड़ते हुए शरीर की शक्ति बनी रहे।

यह वायरस हमारे देश में अगर तेजी से फेलता है तो इसे कण्ट्रोल कर पाना बहुत ही मुश्किल होगा और जिस प्रकार ये अभी पुरे विश्व में तेजी से फेल रहा है यह काफी दयनीय स्थिति है। लेकिन अभी तक रीसर्च से मालूम हुवा है कि यह वायरस 26-27° टेम्प्रेचर के ऊपर बढ़ते ही यह वायरस सरवाई नहीं कर पायेगा। इसलिए यह कहाँ जा सकता है कि जैसे जैसे गर्मी बढ़ेगी यह वाइरस खत्म होने लगेगा। इसके बावजूद भी हमें सावधान रहने कि आवश्यकता है क्यूंकि अभी तक इस पर रीसर्च पूरी नहीं हुई।

इतनी बड़ी जनसँख्या वाले देश में जहाँ जनसँख्या ज्यादा है पर हॉस्पिटल, सोर्चेस आदि लिमिट है, जिस कारण बीमारी पर जल्द काबू पाना बहुत मुस्किल है और यह वायरस एक दुसरे से ट्रान्सफर हो कर दूसरों को बहुत जल्दी इफ़ेक्ट कर देता है, इसलिए सबसे पहले लोगो को इसे एक दुसरे में फेलने से रोकना होगा। इसलिए लोगो को अभी कुछ समय के लिए भीड़ की जगह जाने से परहेज करना चाहिए, जरूरी काम हो तो ही बाहर जाए, और बाहर जाए तो पुरे प्रोटेक्शन के साथ जाए तो ही हम इस वायरस से छुटकारा पा सकते है और इस वाइरस को हरा सकते है। 

इस बीमारी से लड़ने के लिए अच्छी प्रतिरोधक क्षमता से लड़ा जा सकता है, अगर हमारी प्रतिरोधक क्षमता अच्छी है तो हम कई हद तक सेफ है लेकिन अगर इससे काम है तो यह वाइरस हमारे शरीर आराम से इफ्फेक्ट कर सकता है। इसलिए हम लोगो को Homeopathy के आधार पर इस वाइरस के symptoms और प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के आधार पर  "Arsenicum Album 30" की 4 globules का सिंगल डोज तीन दिन तक दे रहे है।  जिससे अगर यह वायरस शरीर में प्रवेश भी करता है तो हमारा शरीर इसे खुद खत्म करने के लिए पहले से अधिक मजबूत रहेगा। इस मेडिसिन को WHO (World Health Organization) और आयुष ने  इस मेडिसिन को अप्रूव किया है जिसे हर Homeopath हेल्थ वर्कर बन लोगो की प्रतिरोधक(Immunity) क्षमता को बढाने में सहयोग कर रहा है।

डाक्टर होने के नाते हमने इस बीमारी के बारे गहनता से अध्यान किया और लोगो को इसकी जानकारी दी, लोगो को बताया कि इसके लक्षण क्या है और इससे केसे बचा जा सकता है साथ ही अभी तक 2000 से अधिक लोगो इस दवाई का डोज दे चुके है। यह दावा वैदेही बिहारी जन सेवा संस्थान की और से 5 मार्च से मुफ्त में दी जा रही है।

इस वाइरस के लिए सरकार बहुत प्रयास कर रही है और इसके लिए अस्पताल में Isolation ward बनाये गए है, बाहर से आने वाले लोगो की लगातार स्क्रीनिंग हो रही है, गावों में से 3 से 4 लोगो की टीम बने गई है जो घर घर में जाकर बाहर से आये लोगो की जाँच कर रहे है और संदिग्ध मिलने पर स्क्रीनिंग कर रहे है। जिन्हें घर में Isolate कर रखा है उनकी सुबह शाम जांच की जा रही है। साथ ही जिले की मीलों में जहाँ बड़ी संख्या में लोग काम करते है उनकी स्क्रीनिंग की गई है। सरकार लोगो प्रचार प्रसार से लोगो को इस वाइरस की जानकारी दे रही है। देश के प्रधानमंत्री के जनता कर्फ्यू के लिए लोगो से आह्वान किया तो कल पुरे देश ने इसका समर्थन करते हुवे लोगों अपना समय घर में बिताना ज्यादा सहीं समझा, और इस कर्फ्यू से कहीं हद 50 प्रतिशत इस वाइरस फेलने की रोकथाम होगी। ये जो 14 घंटे का जो कर्फ्यू था वो यह तो था कि इससे वाइरस एक दुसरे में नहीं फेलेगा, इससे यह भी था की कोई जो इन्फेक्टेड व्यक्ति था जिसके द्वारा कई जगह छूने, थूकने आदि से वायरस किसी जगह अया गया होगा तो इस कर्फ्यू से सभी लोग अपने घर पर ही रहेंगे और वो वाइरस वहीँ खत्म हो जाएगा। क्यूंकि यह वाइरस जिन्दा चीज़ों पर ही जीवित रहता है, और बाकि जगह पर वह ज्यादा समय तक जिन्दा नहीं रह पाता है। अगर यह वाइरस किसी नॉन लिविंग रहा होगा शहर में तो वो इस कर्फ्यू के दौरान वो वाइरस उस जगह अपने आप ही खत्म हो जाएगा। अगर वायरस ट्रान्सफर नहीं होगा तो लोग इन्फेक्टेड नहीं होंगे और जो इन्फेक्टेड है बस उनका ही ट्रीटमेंट करना है तो इससे इस वायरस को जल्द से जल्द कर पाना आसान होगा इसलिए लोगो को इसे ट्रांसमिट करने से रोकना होगा और साथ अगर किसी को भी लगे की उसे सुखी खांसी, बुखार, साँस लेने तकलीफ आ रही है, तो बिना डर के हॉस्पिटल में जाए अपना टेस्ट करवाए, अगर समय पर जांच हो जायेगी तो इस बीमारी पर काबू पाया जा सकता है और कण्ट्रोल भी कर लिया जाएगा। लोग खुद को भी कुछ भी कुछ दिन के लिए घर में isolate कर के भी इसे ट्रान्सफर होने से रोक सकते है।

तो अंत में यहीं कहना है कि सेफ रहिये सुरक्षित रहे, और कुछ समय के लिए जरूरी काम के लिए ही बाहर निकले लोगो के संपर्क में न आये मास्क पहने, हर आधे घंटे में हाथ मुह धोये, तो इस बीमारी से हम जल्द से जल्द काबू पा लेंगे।

शेयर करे

More article

Search
×
;